जैविक खाद

जैविक खेती के साथ गो पालन को दें बढ़ावा : बृजमोहन

मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि किसानों को उन्नत और तकनीकी खेती के साथ जैविक खेती को बढ़ावा देना चाहिए। जैविक खेती से कृषि योग्य भूमि की उर्वरा शक्ति बनी रहती है, जबकि रासायनिक उर्वरकों के उपयोग से खेत की उत्पादन क्षमता में लगातार कमी हो रही है, जो आने वाली पीढ़ी के लिए खतरनाक है। उन्होंने किसानों से प्रयोग के तौर पर एक-एक एकड़ खेत पर जैविक खेती करने का आग्रह किया।

राइजोबियम जीवाणु कल्चर एवं उपयोगिता

राइजोबियम कल्चर 'राइजोबियम' नामक जीवाणुओं का एक संग्रह है जिसमें हवा से नेत्रजन प्राप्त करने वाले जीवाणु काफी संखया में मौजूद रहते है,  जैसा कि आप जानतें है कि सभी दलहनी फसलों की जड़ों में छोटी-छोटी  गांठें पायी जाती है । जिसमें राइजोबियम नामक जीवाणु पाये जाते हैं । ये जीवाणु हवा से नेत्रजन लेकर पौधों को खाद्य के रूप में प्रदान करते हैं । इस कल्चर का प्रयोग सभी प्रकार के दलहनी फसलों में किया जाता है ।

जैविक खाद बनाना कैसे सीखे

जैविक खाद

बढ़ती आधुनिकता और ग्लोबल वार्मिंग ने जिन नई-नई बीमारियों को जन्म दिया है, उसमें रासायनिक खादों का बहुत बड़ा हाथ है। ऐसे में जैविक खादों का उपयोग अत्यंत जरूरी हो जाता है। एक दौर में खेती को  बढ़ावा देने और अनाज की अधिक उपज के लिए जो वैज्ञानिक उर्वरक खादों के उपयोग पर जोर देते थे, वही वैज्ञानिक आज अनेक बीमारियों से बचने के लिए फसलों में जैविक खादों के प्रयोग पर बल दे रहे हैं। एक आंकड़े के अनुसार देश में पौष्टिक तत्वों की कुल खपत में रासायनिक खादों से उगाए गए खाद्य बाजारों में अधिक मात्रा में उपलब्ध हैं। हरित क्रांति के बाद के युग में बहु पौष्टिक तत्वों में तकरीबन अस्सी प्रतिशत की कमी आई है। औ

Pages