केंचुआ खाद से मिट्टी की उत्पादकता को बढ़ाया जा सकता है।

रासायनिक खादों के बुरे असर से निजात दिलाने के लिए  किसानों को केंचुए से बनी खाद(जेविक खाद ) का प्रयोग करना चाहिए !किसानों को जैविक खाद के बारे में उपयोगी जानकारी लेनी चाहिये क्योकि इससे रोजगार के नए मौके मुहैया होंगे। केंचुआ खाद समय की मांग है ! रासायनिक उर्वरकों की वजह से भूमि की उत्पादकता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, लेकिन केंचुआ खाद के इस्तेमाल से मिट्टी की उत्पादकता को बढ़ाया जा सकता है।

किसानो के लिए लाभदायक साबित हो सकती है हरी खाद

जैविक खेती को बढ़ावा दिए जाने के लिए किसान कल्याण विभाग ने किसानों को हरी खाद का लाभ बताते हुए इसके उपयोग करने की सलाह दी है।
विभाग द्वारा किसानों को हरी खाद के उपयोग के संबंध में बताया गया है कि हरी खाद से भूमि की संरचना सुधरती है और उर्वरा शक्ति बढ़ती है। खेतों
से यदि हम अपने पोषण के लिये बहुत कुछ जुटा लेते हैं तो पौधे भी अपने लिये आवश्यक भोजन का प्रबंध अन्य पौधों की दम पर कर सकते हैं। इस
तरह के प्राकृतिक पोषण को हरी खाद की फसल कहते हैं।अगर सही ढंग से इसका प्रयोग किया जाये तो फसलो के उत्पादन में दोगुना बढ़ोतरी हो सकती है!

केंचुआ खाद से मिट्टी की उत्पादकता को बढ़ाया जा सकता है।

रासायनिक खादों के बुरे असर से निजात दिलाने के लिए  किसानों को केंचुए से बनी खाद(जेविक खाद ) का प्रयोग करना चाहिए !किसानों को जैविक खाद के बारे में उपयोगी जानकारी लेनी चाहिये क्योकि इससे रोजगार के नए मौके मुहैया होंगे। केंचुआ खाद समय की मांग है ! रासायनिक उर्वरकों की वजह से भूमि की उत्पादकता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, लेकिन केंचुआ खाद के इस्तेमाल से मिट्टी की उत्पादकता को बढ़ाया जा सकता है।

केमिकल से बंजर बनती जा रही जमीन

 लैब में लिए गए मिट्टी के नमूनों के आधार पर कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि खेतों में अच्छी पैदावार लेने के लिए केमिकल फर्टिलाइजर, नमक और कीटनाशक दवाइयों के ज्यादा इस्तेमाल से जमीन बंजर बनती जा रही है। दनकौर इलाके के बिलासपुर कस्बे में जिले की एकमात्र मिट्टी परीक्षण लैब में करीब एक महीने पहले दादरी, बिसरख, दनकौर और जेवर ब्लॉक के करीब 8 हजार खेतों से लिए गए मिट्टी के नमूनों की जांच ने सबको चौंका दिया है।

Pages