किसानों के लिए वरदान थायो यूरिया जैव नियामक

uria tayo niyamak

कृषि में पानी की भूमिका के बारे में हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं। किंतु बीते कुछ दशकों से जिस तरह से पानी की मांग में बढ़ोतरी और पानी के संसाधनों में कमी आई है उसे देखते हुए कृषि के सुखद भविष्य के बारे में विश्वासपूर्वक कुछ भी कह पाना कठिन है। साल दर साल मानसून का देरी से आना और निरंतर घटते भूजल ने किसानों और सरकार के समक्ष अनेक यक्ष प्रश्न खड़े कर दिए हैं। ऐसी विकट परिस्थितियों में कृषि विशेषज्ञों ने पानी की कमी से निपटने के लिए ‘थायो यूरिया जैव नियामक’ नामक एक ऐसी तकनीक ईजाद की है जिससे कृषि के लिए पानी की कमी संबंधी समस्या बीते कल की कहानी बनकर रह जाएगी। दूसरे शब्दों मे कहा जा सकता है क

बहुफसलीय खेती की जरुरत

multi crop

हरित क्रांति का अभिशाप झेल रहा पंजाब बहुफसलीय खेती की ओर मुड़ता दिखाई दे रहा है। कृषि वैज्ञानिकों का मानना है कि खेती में विविधता न केवल भूजल स्तर को बनाए रखने के लिए उपयोगी होगी, बल्कि फसलों की पैदावार में जो एकरुपता आ गई है, बल्कि फसलों की पैदावार में जो एकरुपता आ गई है उसे भी विविधता में बदला जा सकता है। हरित क्रांति के बाद प्रचलन में आई कृषि प्रणाली को बदलना इसलिए भी जरुरी हो गया है क्योंकि पंजाब कृशि विश्व विद्यालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में अकेले पंजाब में 7000 से भी ज्यादा किसान आत्महत्या कर चुके हैं। इन बद्तर हालातों के मद्देनजर यह अच्छी बात रही कि पंजाब सरकार ने वैज्

बेमौसम बारिश से बर्बाद हो रही हैं फसलें, किसानों की आंखों से छलक रहा है दर्द

राजधानी सहित पूरे यूपी में बेमौसम बारिश ने किसानों की कमर तोड़कर रख दी है। एक बार फिर मौसम की करवट ने किसानों का दर्द दोगुना कर दिया है। किसानों की चौपट हो चुकी फसल का अभी तक सरकार उनको मुवावजा नहीं दे सकी है कि एक बार फिर यूपी में बारिश ने कहर बरपा दिया है। रविवार रात से लगातार हो रही बारिश ने किसानों के साथ-साथ सरकार के माथे पर भी चिंता की लकीर खींच दी है। मौसम विभाग के अनुसार, यूपी का पारा आठ डिग्री तक लुढ़क गया है।

बारिश से गेहूं का एक लाख हेक्टेयर रकबा प्रभावित

बारिश से गेहूं का एक लाख हेक्टेयर रकबा प्रभावित

रुहेलखंड के अन्नदाताओं की पीड़ा और बढ़ गई। बारिश के कारण गेहूं का एक लाख हेक्टेयर रकबा प्रभावित हुआ। इसमें पांच से सात फीसद नुकसान हुआ है। इतना ही उत्पादन गिरने के आसार है। इसी तरह सरसों का 20 हजार हेक्टेयर रकबा प्रभावित हुआ है। कृषि विभाग खुद पांच फीसद तक नुकसान मान रहा है। कारण, गेहूं की तैयार खड़ी फसल अब लेट कटेगी।

Pages