दोबारा बारिश से सड़ने लगीं फसलें

माह की शुरुआत में हुई भारी बारिश व ओलावृष्टि से आहत किसानों की कमर अभी सीधी भी नहीं हुई कि रविवार देर रात से सोमवार के बीच फिर हुई बारिश ने उन्हें पूरी तरह तोड़ दिया। पहले आई बारिश व तेज हवाओं से खेतों में बिछी फसलें अब सड़ने लगी हैं।

इसका सबसे ज्यादा असर गेहूं, सरसों, आलू, आम और दलहनी फसलों पर पड़ा है। नुकसान के सदमे से उत्तर प्रदेश में 12 और किसानों की मौत हो गई। इस दौरान बिहार में भी आंधी-पानी ने जनजीवन प्रभावित किया और वज्रपात से प्रदेश में 10 लोगों की मौत हो गई। राजधानी दिल्ली सहित पहाड़ी राज्यों में हुई बारिश से तापमान में भी गिरावट आई है।

कृषि वैज्ञानिकों ने विकसित किया बैगनी रंग का टमाटर

 भारतीय बागवानी अनुसंधान संस्थान (आईआईएचआर) बेंगलूरु के वैज्ञानिकों ने आनुवांशिक रुप लाल की बजाय बैगनी रंग के टमाटर की एक नई किस्म विकसित की है| उन्होंने यह दावा किया हैकि यह हृदय रोग, कैसर, मधुमेह और गठिया से बचाव करेगा| बैगनी टमाटर एन्टी ऑक्सीडेंट से भरपूर है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।इस टमाटर की खासियत यह है की इसकी खेती सालो भर की जा सकती है और इसकी उत्पादकता भी काफी अधिक है। कृषि वैज्ञानिक एम मनमोहन ने बताया कि इस टमाटर मेंस्नैपड्रैगन के फूल से दो जीन लिए गए है ताकि इसमें गहरा बैगनी रंग आये। यह टमाटर पूरी तरह पकने या आधा पके होने पर ही बैगनी रंग का नजर आएगा। वैज्ञानिकों ने एन्ट

प्रोबायोटिक्स-प्रकृति की आंतरिक रोगहर

रल भाषा में प्रोबायोटिक का मतलब ‘जीवन से सम्बन्धित है’ यह शब्द ग्रीक भाषा से उत्त्पन्न हुआ है. प्रोबायोटिक सबसे पहले वर्नर कोल्थ ने १९५३ में दिया था. वास्तविक परिभाषा में प्रोबायोटिक एक ऐसा तत्व है जो एक जीव से पैदा होता है तथा दूसरे की वृद्धि में सहायक होता है. इसको हम दूसरे रूप में कह सकते है, एक जीवित सूक्ष्मजीव जो मेजबान के शरीर में आंत में रह रहे सूक्ष्मजीवों के बीच में संतुलन बनाए रखता है. लेक्टोबेसिल्स और बयोफिडम सबसे ज्यादा उपयोगी व लाभकारी प्रोबायोटिक जीवाणु है.

पेड़-पौधे भी करते हैं बातें!

पेड़-पौधे भी करते हैं बातें!

मनुष्यों की तरह पेड़-पौधे भी आपस में बातें करते हैं। एक वैज्ञानिक ने खोज के तहत पौधों के बीच संचार के एक नए रूप की खोज की है, जिसमें वे एक दूसरे के साथ असाधारण अनुवांशिक जानकारियों को साझा करते हैं। वर्जीनिया पॉलिटेक्निक इंस्टीट्यूट एंड स्टेट यूनिवर्सिटी में कॉलेज ऑफ एग्रीकल्चर एंड लाइफ साइंस के प्रोफेसर जिम वेस्टवुड ने कहा, कि इस खोज से विश्व के निर्धन देशों में फसलों पर कहर बरपा रहे परजीवी घासों से भी लड़ने में मदद मिलेगी।

Pages