किसान हैल्प

किसान हैल्प किसानों का एक राष्ट्रीय संगठन है।संगठन गैरराजनीतिक है।यह संगठन देश के गरीब किसानों को उनकी फसलों के उचित मूल्य मिले, किसान को सम्मान मिले उसे न्याय मिले इसी उद्देश्य के साथ संगठन कई इकाइयों के साथ देश में कार्य कर रहा है।
इस संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ राधा कान्त सिंह हैं, जो एक सफल जैविक किसान हैं।
किसानों को खेती के सहायता के लिए संगठन ने "किसन हेल्प लाइन " के नाम से एक किसान शिक्षा इकाई की स्थापना की जिससे हजारों लाखों किसानों को लाभ मिलता है।

देश के 14.5 करोड़ किसानों को मोदी सरकार का तोहफा, अब सिर्फ 15 दिन में बनेगा किसान क्रेडिट कार्ड

देश के 14.5 करोड़ किसानों को मोदी सरकार का तोहफा, अब सिर्फ 15 दिन में बनेगा किसान क्रेडिट कार्ड

किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि योजना ( Kisan Samman Nidhi Yojana ) की सौगात देने के बाद मोदी सरकार ( Modi govt ) देश के किसानों को क्रेडिट कार्ड ( Kisan Credit Card ) देने का फैसला किया है। सरकार ने देश के किसानों को साहूकार के द्वारा लगाए जाने वाले भारी ब्याज से बचाने के लिए यह अभियान शुरू किया है। सरकार के इस फैसले से किसानों की आय को बढ़ाया जा सकेगा। इसके साथ ही अगर किसानों के पास क्रेडिट कार्ड ( KCC ) होगा तो वह आसानी से कर्ज ले सकते हैं।

15 दिन में बनेगा KCC

किसानों के लिए स्वैच्छिक होगी पीएम फसल बीमा योजना, होंगे कई बदलाव

किसानों के लिए स्वैच्छिक होगी पीएम फसल बीमा योजना, होंगे कई बदलाव

केंद्र सरकार जल्द ही पीएम किसान फसल बीमा योजना में कई बड़े बदलाव करने जा रही है। इसमें किसानों के इस योजना में शामिल होना पूरी तरह से स्वैच्छिक होगा। इसके साथ ही योजना से ऊंचे प्रीमियम वाली फसलों को भी लिस्ट से हटा दिया जाएगा। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी।
फसलों पर इतना होगी प्रीमियम सिलिंग
अधिकारी का कहना है कि सिंचित क्षेत्र के मुताबिक फसलों का प्रीमियम तय होगा। अगर फसल का सिंचित क्षेत्र 50 फीसदी से ज्यादा है तो 25 फीसदी प्रीमियम सीलिंग का भी सुझाव दिया है। वहीं अगर फसल का सिंचित क्षेत्र 50 फीसदी से कम है तो प्रीमियम सीलिंग 30 फीसदी हो सकती है।

बिहार में पंचायतों में लगेंगे किसान चौपाल

बिहार में पंचायतों में लगेंगे किसान चौपाल

राज्य के सभी पंचायतों में लगेंगे किसान चौपाल, किसानों को किया जाएगा जागरूक
राज्य सरकार खरीफ फसल से पहले किसानों को किसान चौपाल के माध्यम से बेहतर तकनीक से खेती करने का गुड़ सिखाएगी. इसके लिए कृषि विभाग ने तैयारियां पूरी कर ली है. कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने बताया कि राज्य के सभी 38 जिलों के अंर्तगत 534 प्रखंडों के 8 हजार 4 सौ पांच पंचायतों में गांव का चयन किया गया है. जहां 10 जून से लेकर 30 जून तक चौपाल लगाया जाएगा.
सभी जनप्रतिनिधि होंगे शामिल

किसान ऑन लाइनआवेदन कर कृषि यंत्रों पर पाएं 40 से 50 प्रतिशत तक की छूट

पिछले वर्षों तक किसानों को फार्म आदि जमा कराने के लिए कार्यालयों के चक्कर काटने पड़ते थे, जो अब नहीं काटने पड़ेंगे पड़ेंगे। ऑनलाइन आवेदन करने से योजना में पारदर्शिता भी आएगी। किसान अपने आसपास किसी भी जनसेवा केंद्र (सीएससी) पर कृषि यंत्र के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Pages