बेमौसम बारिश से बर्बाद हो रही हैं फसलें, किसानों की आंखों से छलक रहा है दर्द

राजधानी सहित पूरे यूपी में बेमौसम बारिश ने किसानों की कमर तोड़कर रख दी है। एक बार फिर मौसम की करवट ने किसानों का दर्द दोगुना कर दिया है। किसानों की चौपट हो चुकी फसल का अभी तक सरकार उनको मुवावजा नहीं दे सकी है कि एक बार फिर यूपी में बारिश ने कहर बरपा दिया है। रविवार रात से लगातार हो रही बारिश ने किसानों के साथ-साथ सरकार के माथे पर भी चिंता की लकीर खींच दी है। मौसम विभाग के अनुसार, यूपी का पारा आठ डिग्री तक लुढ़क गया है।

बारिश से गेहूं का एक लाख हेक्टेयर रकबा प्रभावित

बारिश से गेहूं का एक लाख हेक्टेयर रकबा प्रभावित

रुहेलखंड के अन्नदाताओं की पीड़ा और बढ़ गई। बारिश के कारण गेहूं का एक लाख हेक्टेयर रकबा प्रभावित हुआ। इसमें पांच से सात फीसद नुकसान हुआ है। इतना ही उत्पादन गिरने के आसार है। इसी तरह सरसों का 20 हजार हेक्टेयर रकबा प्रभावित हुआ है। कृषि विभाग खुद पांच फीसद तक नुकसान मान रहा है। कारण, गेहूं की तैयार खड़ी फसल अब लेट कटेगी।

बरसात ने झुकाई किसानों की कमर

मौसम का मिजाज सोमवार को अचानक बदल गया। भोर से ही तेज हवाओं के साथ शुरू हुई बूंदाबांदी दोपहर तक रिमझिम बरसात में तब्दील हो गई। दो बार बारिश झेल चुकी गेहूं की फसल को झटका लगते देख किसानों का दिल बैठ गया। कृषि जानकारों की मानें तो बरसात फसल के लिए नुकसानदेह है। उनका कहना है कि गेहूं के अलावा दलहनी और तिलहनी फसले भी बारिश से तबाह बरबाद हो जाएंगी। 

आरबीआई ने किसानों को कर्ज चुकाने के लिए दिया ज्यादा समय

प्राकृतिक आपदा कई राज्यों के किसानों के लिए तबाही का सबब बन चुकी है। रिपोर्ट के मुताबिक पिछले एक महीने के दौरान बेमौसम बारिश और तूफान से खराब फसलों की वजह से एक दर्जन से ज्यादा किसानों ने सिर्फ उत्तर प्रदेश में आत्महत्या की है। लेकिन इन किसानों को अभी तक कोई राहत नहीं मिल पाई है, तो इसके लिए राज्यों का रवैया ही काफी हद तक जिम्मेदार है।

Pages