कृषि से आगे सोचे ग्रामीण भारत: कलाम

कृषि से आगे सोचे ग्रामीण भारत

पूर्व राष्ट्रपति डा. एपीजे अब्दुल कलाम ने कहा है कि अगर ग्रामीण भारत कृषि से आगे जा कर सोचे तो रोजगार के अवसर बहुत बढ़ जाएंगे। कलाम ने कहा कि कुछ मामलों में, हमारे पास स्थानीय शिल्पकारी, ग्रामीण पर्यटन, ज्ञान आधारित उत्पादों और सेवा क्षेत्र आदि के अवसर हो सकते हैं। इस तरह से, विभिन्न अवसरों पर ध्यान केंद्रित करने से बेहतर रोजगार सृजन में मदद मिलेगी और बेरोजगारी की समस्या से निपटने का उपाय भी मिलेगा।

 

राष्ट्र-विकास में कृषि की घटती हिस्सेदारी

राष्ट्र-विकास में कृषि की घटती हिस्सेदारी

 देश के सकल विकास में कृषि की हिस्सेदारी साल दर साल घटती जा रही है। सरकार की अपनी ही रिपोर्ट बताती है कि यह छह वर्षों में 19 प्रतिशत से घटकर 14 प्रतिशत पर आ गई है। यह इस तथ्य के बावजूद है कि देश में अनाज का उत्पादन काफी बढ़ा है और सरकारी खरीद के कारण हमारे गोदाम न सिर्फ जरुरत से ज्यादा भरे हैं बल्कि तमाम अनाज बाहर खुले में भी रखना पड़ा है। कृषि की घटती हिस्सेदारी का एक दूसरा अर्थ यह भी है कि किसान खेती छोड़कर अन्य कार्यों में लग रहे हैं तथा कृषि योग्य जमीन घट रही व लागत बढ़ रही है। कृषि प्रधान देश होने के नाते भारत के लिए यह स्थिति ठीक नहीं कही जा सकती। देश में कृषि पर निर्भरता

भारत में बदहाल पशुधन और कृषि

भारत में बदहाल पशुधन और कृषि

सांस्कृतिक और सामाजिक ताने-बाने में कृषि प्रधानता और पशुधन की परिकल्पना प्राचीन समय से ही रही है। किसी भी समाज में खाद्य-सुरक्षा के लिए कृषि उत्पाद और पशुधन उत्पाद की उपल्बधता आवश्यक मानी जाती है। इस चीज को अगर हम भारतीय परिप्रेक्ष्य में देखें तो पता चलता है कि ग्रामीण भारत में कृषि के साथ ही साथ पशुपालन की परंपरा भी समानांतर ढ़ंग से चलती रही है। ग्रामीण जीवन में पशुपालन ही वो जरिया है जो किसानों की नियमित आय का साधन बनता है और यही वजह है कि कृषि के साथ ही साथ लगभग 72 फीसदी ग्रामीण घरों में पशुपालन किया जा रहा है। पूरे देश में पशुपालन ने उन लोगों के लिए संजीवनी का काम किया है जो भूमिहीन या

किसानों को मुफ्त मिलेंगे जायद फसलों के बीज

किसानों को मुफ्त मिलेंगे जायद फसलों के बीज

शासन की टीम ने मंगलवार को बारिश और ओलावृष्टि से तबाह किसानों को कुछ राहत देने की कोशिश की है। प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रकाश ने कहा है कि जायद की फसलों की बुआई के बीज किसानों को नि:शुल्क उपलब्ध कराए जाएंगे। जायद में मूंग, उड़द, मक्का, ज्वार, बाजरा की बुआई होती है।

नि:शुल्क बीज उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी डिप्टी डायरेक्टर एग्रीकल्चर वीके सिंह को दी गई है। इसकी पुष्टि डीएम डॉ. रोशन जैकब ने की है। दूसरी तरफ शासन की टीम ने सदर, बिल्हौर और घाटमपुर तहसील क्षेत्र के गांवों में जाकर फसलों के अधिकतम नुकसान का आकलन किया है। 

Pages